हाईस्कूल और इंटर परीक्षा का फर्जी कार्यक्रम वायरल

162

प्रयागराज : कोरोना संक्रमण के विकट दौर में इंटरनेट मीडिया पर सोमवार को यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटर परीक्षा 2021 का कार्यक्रम वायरल होने से हड़कंप मच गया। फर्जी कार्यक्रम जारी करने वालों ने दोनों अहम परीक्षाओं का तारीखवार कार्यक्रम घोषित किया। इससे बोर्ड से लेकर शासन तक खलबली मची रही। बोर्ड सचिव दिव्यकांत शुक्ल ने कुछ ही देर में यूपी बोर्ड की अधिकृत वेबसाइट पर पत्र जारी करके घोषित कार्यक्रम को फर्जी करार दिया, यह भी लिखा कि अफवाह फैलाने वालों के विरुद्ध जल्द एफआइआर भी दर्ज कराएंगे।

हाईस्कूल और इंटर परीक्षा का फर्जी कार्यक्रम वायरल

माध्यमिक शिक्षा परिषद (यूपी बोर्ड) की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षा 2021 अब तक नहीं हो सकी है। पहले पंचायत चुनाव और फिर कोरोना की दूसरी लहर के कारण शासन को दो बार परीक्षा कार्यक्रम घोषित करके स्थगित करना पड़ा है। इतना ही नहीं शासन की ओर से रविवार को ही कहा गया था कि 20 मई से ऑनलाइन पढ़ाई कराई जाएगी और बोर्ड परीक्षाओं पर भी मंथन करेंगे। सोमवार दोपहर में कई वाट्सएप ग्रुपों पर हाईस्कूल व इंटर की परीक्षा पांच से 25 जून तक कराने का विधिवत कार्यक्रम वायरल होने लगा। जिसने भी इसे देखा उसने अन्य ग्रुपों में आगे बढ़ा दिया। लिहाजा एक साथ कई ग्रुपों पर फर्जी संदेशों की बाढ़ आ गई। कुछ लोगों ने यूपी बोर्ड के वाट्सएप ग्रुप पर भी परीक्षा कार्यक्रम फारवर्ड कर दिया। तब बोर्ड सचिव ने इसे सिरे से खारिज किया। बोर्ड सचिव ने कुछ देर बाद ही अधिकृत वाट्सएप ग्रुप व बोर्ड की वेबसाइट पर पत्र जारी किया, इसमें कहा गया है कि यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटर की परीक्षा पांच से 25 जून तक कराने का कार्यक्रम पूरी तरह से फर्जी है। परीक्षार्थी इसे इग्नोर करें, इस मामले में जो भी दोषी मिलेगा उसके विरुद्ध एफआइआर दर्ज कराकर कड़ी कार्रवाई कराएंगे। बोर्ड ने अभी तक जून का कोई परीक्षा कार्यक्रम घोषित नहीं किया है। पहले आठ मई से परीक्षाएं प्रस्तावित थी, जिसे स्थगित किया जा चुका है। ज्ञात हो कि इस परीक्षा में करीब 56 लाख से अधिक परीक्षार्थी पंजीकृत हैं।